पंचायत के प्रयास

चम्प नहर

चम्प नहर का निर्माण लगभग 1980-81 में श्री चम्पालाल जैन सरपंच के कार्य कल में हुआ था. जिसका निर्माण का मुख्य कारन खेरोट के बड़े तालाब में पानी की आवक को बढ़ा कर बड़े तालाब को भरना था. जिससे गर्मी में पानी की समस्या का समाधान हो सके . तालाब के निर्माण कें बाद से तालाब एक बार भी पूरा नहीं भरा था . इसलिए पंचायत के दवारा निर्णय लिया गया की जहाज़ पुर की तरफ जो पानी जाता है उसे एक नहर का निर्माण कराया जाये जिससे तालाब को बरसात में पूरा भरा जाये . अत: पंचायत के निर्णय के अनुसार नहर का निर्माण कराया गया जिससे तालाब में पानी की आवक बढ़ी लेकिन ज्यादा फायदा नहीं हुआ कयोकि नहर का निर्माण के समय पर नहर का लेबल नहीं हो पाया गावं के सदस्य बताते है की पंचायत के पास उस समय अच्छे जानकर लोग नहीं थे एवं किसी प्रकार के साधन नहीं थे और दूसरा कारण बताते है कि पंचायत के पास पर्याप्त बजट नहीं था अत: नहर का पक्का निर्माण नहीं हो पाया बरसात के समय में जब पानी आता है तो नहर में दोनों तरफ से मिटटी का कटाव होता है और पानी रुक जाता है कई वर्सो तक पंचायत के दवारा प्रयास किया गया लेकिन सफलता नहीं मिली ये नहर लगभग १ किलोमीटर है इसमें ग्राम पंचायत के सदस्यों दवारा भरसक प्रयास किया गया इस नहर को पक्का निर्माण करने हेतु पंचायत ने कई विभागों से सहायता मागी लेकिन सफलता नहीं मिली. 2006-07 पंचायत ने श्री महावीर जलग्रहण विकास समिति खेरोट के माध्यम से नहर को पक्का बनाने एवं उसका लेबल करने हेतु एफ..एस.के द्वारा लागत निकलवाई जिसकी लागत ७.८५ लाख रुपये थी. लेकिन पंचायत के पास बजट नहीं होने के कारन नहर का निर्माण नहीं हो पाया. पंचायत के प्रतेक्य वार्षिक बजट में नहर के निर्माण हेतु प्रस्ताव लिया जाता है लेकिन पंचायत समिति एवं जिला परिसद दवारा इस बजट को हटा दिया जाता है इससे अगर इस नहर का निर्माण सही तरीके से हो जाता है तो खेरोट पंचायत का बड़ा तालाब जिसकी भराव 52 बीघा है पूरा भर सकता है जिससे खेरोट,तालाब खेडा,जोगी खेडा,खाथोड़ी एवं मोर मगरी आदि गाँवो कि लगभग 600 से 700 बीघा जमीन सिंचित हो जाएगी सिंचित करने हेतु डीजलपम्प या बिजली कि मोटर कि आवस्यकता नहीं होगी. पाईप के दवारा सायफन विधि के दवारा पानी जायेगा. जिसके कारन लगभग 200 परिवारों को कम लागत में खेती करने का फायदा मिलेगा.

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s